क्या फिक्सड होते हैं बॉलीवड के अवॉर्ड शोज में दिए जाने वाले अवॉर्ड?, ये बड़े स्टार्स नहीं जाते इन समारोह में

क्या फिक्सड होते हैं बॉलीवड के अवॉर्ड शोज में दिए जाने वाले अवॉर्ड?, ये बड़े स्टार्स नहीं जाते इन समारोह में


सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या के बाद बॉलीवुड मे नेपोटिज्म और गुटबाजी का मुद्दा गर्माया हुआ है। अवॉर्ड फंक्शन पर भी सवाल उठ रहे हैं। हाल ही अभिनेता अभय देओल ने बताया कि फिल्म 'जिंदगी ना मिलेगी दोबारा' के लिए किस तरह अवॉर्ड शो में केवल ऋतिक रोशन और कैटरीना कैफ को ही तवज्जो दी गई, उन्हें नहीं। उन्होंने लिखा,मैं बताना चाहूंगा कि लगभग सभी अवॉर्ड शो में मुझे और फरहान अख्तर को दबाया गया। हम दोनों को सहायक कलाकार की कैटेगरी में नॉमिनेट किया गया। जबकि ऋतिक और कटरीना को मुख्य भूमिका वाली कैटेगरी के लिए चुना गया। यह मुद्दा कोई नया नहीं है। बॉलीवुड में ऐसे कई दिग्गज कलाकार हैं, जो इन अवॉर्ड शोज में विश्वास नहीं रखते। वे ऐसे समारोह से दूरी बनाकर रखते हैं। इनमें आमिर खान से लेकर कंगना रनोत तक के नाम शामिल हैं।

क्या फिक्सड होते हैं बॉलीवड के अवॉर्ड शोज में दिए जाने वाले अवॉर्ड?, ये बड़े स्टार्स नहीं जाते इन समारोह में

आमिर खान

बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट आमिर खान (Aamir Khan) भी अवॉर्ड फंक्शन से दूरी बनाकर रखते हैं। उनकी फिल्मों 'जो जीता वही सिकंदर', 'हम है राही प्यार के' और 'रंगीला' को नजरअंदाज किए जाने के बाद से उन्होंने अवॉर्ड शोज में जाना बंद कर दिया था। वे आज भी किसी अवॉर्ड फंक्शन में नजर नहीं आते। वर्ष 1996 में आमिर की फिल्म 'रंगीला' फिल्मफेयर अवॉर्ड के लिए नोमिनेट हुई थी। हालांकि अवॉर्ड 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगें' को मिला। ऐसा ही कुछ उनकी फिल्म 'जो जीता वही सिंकदर' के साथ भी हुआ था।

क्या फिक्सड होते हैं बॉलीवड के अवॉर्ड शोज में दिए जाने वाले अवॉर्ड?, ये बड़े स्टार्स नहीं जाते इन समारोह में

अजय देवगन

बॉलीवुड अभिनेता अजय देवगन भी अवॉर्ड फंक्शन पर सवल उठा चुके हैं। वे इन अवॉर्ड समारोह को भरोसेमंद नहीं मानते। उनका कहना है इनमें अवॉर्ड देने में हेर—फेर की जाती है। उनका मानना है कि पहले ही फोन करके बता दिया जाता है कि अवॉर्ड किसे मिलने वाला है।

क्या फिक्सड होते हैं बॉलीवड के अवॉर्ड शोज में दिए जाने वाले अवॉर्ड?, ये बड़े स्टार्स नहीं जाते इन समारोह में

कंगना रनोत

अभिनेत्री कंगना रनोत अपने बेबाक बयानों के लिए जानी जाती हैं। वे हर मुद्दे पर खुलकर बोलती हैं। बॉलीवुड में नेपोटिज्म पर वे कई बार बेबाक बयान दे चुकी हैं। इतना ही उन्होंने बॉलीवुड अवॉर्ड शोज को भी फिक्सड बताया था। उनका कहना था कि वे बॉलीवुड के अवॉर्ड सिस्टम यकीन नहीं करती। इसी वजह से वे इनसे दूरी बनाकर रखती हैं।


मनोज मुंतशिर

गीतकार मनोज मुंतशिर ने भी वर्ष 2019 से अवॉर्ड फंक्शन से दूरी बना ली। दरअसल, मनोज मुंतशिर को 'केसरी' के सॉन्ग 'तेरी मिट्टी' के लिए फिल्मफेयर अवॉर्ड में नोमिनेट किया गया था। लेकिन यह अवॉर्ड 'गली बॉय' फिल्म के गाने 'अपना टाइम आएगा' को दे दिया गया। इसके बाद मुंतशिर ने सोशल मीडिया पर अवॉर्ड्स शोज में नहीं जाने की बात कही थी।



😍 यदि आप भी हैं खाने के शौक़ीन तो देखें ये वीडियो  👇👇





Post a Comment

0 Comments