उदित नारायण का 40 साल का हुआ गीतों का सफर, धमकियों के बीच गाते रहे गाने, अब कर रहे हैं यूट्यूब चैनल लॉन्च

उदित नारायण का 40 साल का हुआ गीतों का सफर, धमकियों के बीच गाते रहे गाने, अब कर रहे हैं यूट्यूब चैनल लॉन्च


मशहूर सिंगर उदित नारायण का फिल्म इंडस्ट्री में गीतों का सफर 40 साल का हो गया है। इस दौरान उन्होंने कई एक से बढ़कर एक गाने गाये हैं, जिनके चलते उन्हें दो बार पद्म पुरस्कार और पांच बार फिल्म फेयर अवार्ड भी मिले हैं। उन्होंने केवल हिंदी ही नहीं बल्कि करीब 40 भाषाओं में गाने गाए हैं। लेकिन इस उपलब्धि के लिए उन्हें काफी संघर्ष भी करना पड़ा। अब वे अपना एक यूट्यूब चैनल लांच करने वाले हैं।

जानकारी के अनुसार उदित नारायण ने 1980 में अपने गीतों के सफर की शुरुआत की थी। 5 जुलाई 1980 को उनकी पहली फिल्म "उन्नीस बीस" रिलीज हुई थी ।जिसमें संगीत राजेश रोशन का और गाना उदित नारायण ने मोहम्मद रफी के साथ गाया था। उन्हें बॉलीवुड में कदम रखने से पहले काफी संघर्ष करना पड़ा। वे किसान के बेटे थे और जब मुंबई में काम के लिए जाते तो उन्हें कई संगीतकारों की मनुहार करनी पड़ती थी। लेकिन 1988 में कयामत से कयामत तक के बाद वे सफलता की सीढ़ियां साल दर साल चढ़ते गए।

खौफ के साए में बीते 22 साल

सिंगर की सफलता जब कुछ लोगों को खटकने लगी तो उन्हें एक के बाद एक धमकी भरे कॉल आने लगे, उन्हें फोन पर कहां जाता था हवा में उड़ रहे हो, एक्सटॉर्शन मनी के भी काल आते थे, वही काम छोड़ने के लिए भी प्रेशर किया जाता था, उनके नाम की सुपारी भी दी गई थी , लेकिन क्राइम ब्रांच का सहयोग होने से वह सुरक्षित रहें। उन्हें 1998 में तत्कालीन पुलिस कमिश्नर एमएन सिंह ने 2 पुलिस अफसर भी दिए थे, इसके बाद जब राकेश मारिया आए तो उन्होंने भी अलर्ट रहने को कहा उन्होंने भी सिंगर को सुरक्षा उपलब्ध कराई । इस प्रकार उन्हें वर्ष 2019 तक धमकी भरे कॉल आते रहे , एक बार लखनऊ से उनके नाम की सुपारी लेकर कुछ लोग निकले थे, जो पुलिस के हत्थे चढ़ गए। इस प्रकार उन्हें 1998 से लेकर 2019 तक गरीब 22 साल तक खोफ के साए में जिंदगी बितानी पड़ी। लेकिन वे पीछे नहीं हटे और इस दौरान भी उन्होंने एक से बढ़कर एक गाने गाये जो आज भी लोग गुनगुनाते नजर आते हैं। इस दौरान उन्हें कई बार आत्महत्या करने के भी ख्याल आए क्योंकि वे डिप्रेशन में चले गए थे । उन्होंने बताया कि फिल्म इंडस्ट्री ने 40 साल मुझे बहुत प्यार दिया। मैं शुक्रगुजार हूं । मैंने अपनी जिंदगी की तकलीफों और धमकियों से यही सीखा है कि आपकी मंजिल जितनी बड़ी होगी। आपके सामने अड़चनें भी उतनी बड़ी आएंगी, उनसे घबराना नहीं है डटकर सामना करना है।



😍 यदि आप भी हैं खाने के शौक़ीन तो देखें ये वीडियो  👇👇





Post a Comment

0 Comments